Archive for the ‘Ambekdar Books’ Category

title-page-001

Milestone Education Review (The Journal of Ideas on Educational & Social Transformation)

ISSN:2278-2168

Year 07, No.02, October, 2016

Special Issue on “Ambedkar, Indian Society and Tribal Philosophy”

(Released on 21st November, 2016)

Chief-Editor: Desh Raj Sirswal

Download the issue from given link:

https://drambedkar125.wordpress.com/2016/11/22/special-issue-on-ambedkar-indian-society-and-tribal-philosophy/

The Proceeding of One Day FDP on “Dr.B.R. Ambedkar, Indian Constitution and Indian Society” released in “ICSSR Sponsored National Seminar on Challenges to Social Security and Social Inclusion for Inclusive Growth in India” at PGGCG -11, Chandigarh held on 5th August 2016. Thanks to P.G.Department of Public Administration, PGGCG 11,Chandigarh for their full time support. Thanks to the Principal and organisers of today’s programme who managed for this release from their busy schedule.

IMG_0667

Details of the Book:

Proceedings of the One-Day Faculty Development Programme on “Dr. B.R. Ambedkar, Indian Constitution and Indian Society”

Compiler: Dr. Desh Raj Sirswal

ISBN: 978-81-922377-9-4

First Edition: July 2016

© Centre for Positive Philosophy and Interdisciplinary Studies (CPPIS), Pehowa (Kurukshetra)

Released on 5th August, 2016

Download the book:

https://cppispublications.wordpress.com/2016/08/06/proceedings-of-the-one-day-faculty-development-programme-on-dr-b-r-ambedkar-indian-constitution-and-indian-society/

Department of Philosophy and Post Graduate Department of Public Administration of PGGCG-11,Chandigarh organised an One-Day Faculty Development Programme under RUSA on the theme “Dr, B.R. Ambedkar, Indian Constitution and Indian Society” on 20th January, 2016. Several aspects of the philosophy of Dr. Ambedkar were discussed in the three sessions. More than 100 participants from Chandigarh and nearby states participated in the seminar. Dr. Ganga Sahay Meena from JNU, New Delhi was the key-note speaker. Dr. Lallan Singh Baghel, Chairperson, Deptt. of Philosophy, Panjab University, Chandigarh was the Chairperson for the inaugural session. The first session on “Socio-Political Philosophy of Dr. Ambedkar” chaired by Dr. Ashutosh Angiras from S.D. college ,Ambala Cantt. The second session under the theme “Dr, B.R. Ambedkar and Women Empowerment “was chaired by Dr. Emannuel Nahar, from Ambedkar Study Centre, Panjab University. Professor Binoo Dogra, Dean and Dr. Rama Arora, Vice Principal were also present on the occasion. Ms. Shashi Joshi proposed a vote of thanks. The programme was successful due to its vastness of content and deliberations by the resource persons and participants.

DSC_0036

DSC_0007

DSCN4141

DSCN4162

 Centre for Positive Philosophy and Interdisciplinary Studies (CPPIS)

Milestone Education Society (Regd.) Pehowa (Kurukshetra)

 Call for an Edited Book

Reference No.: CPPIS/15/015

Date: 26th December 2015

Dr. B. R. Ambedkar is one of the most eminent intellectual figures of modern India. The present year educationist and humanist from all over the world are celebrating 125th Birth Anniversary of Dr. B. R. Ambedkar by organizing various events and programmes. In this regard the Centre for Positive Philosophy and Interdisciplinary Studies (CPPIS), Milestone Education Society (Regd.) Pehowa (Kurukshetra) took an initiative to publish an online book with ISBN. We encourage the academics, activists, students, research scholars, public information officers, journalists, civil society members and others interested in sharing their experiences or writing their thoughts and or taking their look or giving their perspective on the philosophy of Dr. B.R. Ambedkar and contribute a chapter/paper to the proposed edited book.

 

Title: Dr. B.R. Ambedkar: The Maker of Modern India                                                

 

Proposed Themes: Research papers are invited on the below listed sub-themes of the seminar or any other related topics:

  • B. R. Ambedkar’s Philosophy and its Future Vision
  • B. R. Ambedkar’s thoughts on Indian National Spirit
  • B.R. Ambedkar and Indian Society
  • B.R. Ambedkar and His Political Philosophy
  • B.R. Ambedkar and His Social Philosophy
  • B.R. Ambedkar and His Moral Philosophy
  • B.R. Ambedkar and His Educational Philosophy
  • B. R. Ambedkar’s thoughts on Social Reforms & Justice
  • B.R. Ambedkar on Freedom, Equality and Fraternity in Present Context
  • B.R. Ambedkar and Indian Economy
  • B.R. Ambedkar and Women Empowerment
  • B.R. Ambedkar on Indian Democracy
  • B.R. Ambedkar and India’s Freedom Struggle
  • Any other relevant topic related to main theme.

Format of Paper Submission:

Research papers are invited from faculty members and research scholars on the thrust areas of the seminar or any other related topic as per the suggested format here. The paper should be typewritten preferably in Times New Roman in 12 font size (English) or Kruti Dev (10) in 14 font size (Hindi) single spacing in MS-Word format and between 2500 to 3000 words. Name, Designation and Contact details of the authors should be accompanied with the paper on a separate sheet.

  • The authors should submit the hard copy along with a CD and a certificate of originality of the paper to be sent to the given address.
  • For more details visit CPPIS Manual in download section at http://positivephilosophy.webs.com

 

Time Line:

Full Paper submission: 31st January, 2016.

 

CONTACT

Dr. Desh Raj Sirswal, (Coordinator CPPIS)

Near Guga Maidi, House No. 255/6,

Balmiki Basti, Pehowa (Kurukshetra)-136128

Email: cppiskkr@gmail.com , Mobile No. 09896848775

Website: http://drambedkar125.wordpress.com

 

 

 

09cb3295-d8c1-4121-8cec-d0cc3cdcf31c~110-page-001

CELEBRATING WORLD PHILOSOPHY DAY-2015
A Lecture on “Social Philosophy of Dr. B.R. Ambedkar”
19th November, 2015
Time: 11.00 a
Venue: Conference Hall
Speaker: Prof. Subhash Chander
(Professor, Department of Hindi, Kurukshetra University, Kurukshetra)
Organised by Departments of Philosophy and Hindi,
Post Graduate Govt. College for Girls, Sector-11, Chandigarh-160011.

http://philgcg11chd.webs.com

 Screenshot_2014-11-29-23-47-41-1 Screenshot_2014-11-29-23-47-36-1  ambedkar-2 - Copy Ambedkar_19456 ???????????????????????????????  Screenshot_2014-11-29-22-20-53-1

Screenshot_2014-11-29-23-48-15-1

ambedkar

अमेरिका के विश्व प्रसिद्ध कोलंबिया यूनिवर्सिटी मेँ मुख्य दरवाजे के अंदर कि ओर डॉक्टर बाबासाहब आंबेडकर का फोटो लगाया हुआ है ! वहाँ ऐसा लिखा है ,”हमे गर्व है कि , ऐसा छात्र हमारी यूनिवर्सिटी से पढकर गया है .. और उसने भारत का संविधान लिखकर उस देश पर बड़ा उपकार किया है !” कोलंबिया यूनिवर्सिटी के 300 साल पूरे होने के उपलक्ष्य मेँ , पूरे 300 सालोँ मेँ इस यूनिवर्सिटी से सबसे होशियार छात्र कौन रहा? इसका सर्वे किया गया उस सर्वे मे 6 नाम सामने आए , उसमे नं. 1 पर नाम था डॉक्टर बाबासाहब आंबेडकर का !

डॉक्टर बाबासाहाब आंबेडकर के सम्मान मेँ कोलंबिया यूनिवर्सिटी के मुख्य दरवाजे पर उनकी कांस्य प्रतिमा लगायी गयी , उस मूर्ती का अनावरण अमेरिकन राष्ट्रपती बराक ओबामा के करकमलोँ से किया गया ! उस मूर्ती के नीचे लिखा गया है ,” सिम्बॉल ऑफ नॉलेज” यानि ज्ञान का प्रतीक” सिम्बॉल ऑफ नॉलेज ” — डॉ. भीमराव अंबेडकर जी !!

उनके द्वारा प्रस्तावित नियमों के कारण ही आज दलित सम्मान के साथ जी रहे हैं और समाज की मुख्य धारा में योगदान दे रहे हैं. उनके योगदान को प्रकट करता एक कटाक्ष है , जो की सोशल ग्रुप्स पर आजकल छाया हुआ है :

आरक्षण नहीं था तो देश
तरक्की की राह पर था, किन्तु
आरक्षण के आते ही कलियुग शुरू हो गया..
आरक्षण नहीं था तो हनुमान बिना बटर के सूरज
को खा जाता था, ब्रह्मा हाथ, पाँव, मुह से
बच्चे
पैदा करता था, मुख में प्रिंटिंग प्रेस रखते थे, वेद
प्रिंट होकर
निकलते थे, शिव चंद्रमा को हेयर-बैंड की तरह
चोटी में बांधे रखता था, विष्णु उस समय के
स्लीपवेल वाले बैड यानी नाग पर सोता था,
कृष्ण यूँही साइंस के प्रयोग करते करते
रासलीला करता था, राम पत्थर को पाँव
लगाकर उसे
महिला का रूप दे देता था, गणेश
बिना पेट्रोल के चलने वाले
वाहन चूहे की सवारी करते
थे…..विकाश जोरो पर था,
प्रगति हो रही थी…
किन्तु नाश जाए इस मुए आरक्षण का, आते
ही देश
की तरक्की रुकवा दी..

संविधान के 64 साल पहले छुआछूत को खत्म करने के बावजूद भारत में यह बेशर्मी से जारी है। एक अध्ययन में पता चला है कि हर चौथा भारतीय छुआछूत को मानता है और इसे मानने वालों में हर धर्म और जाति के लोग शामिल हैं।  पूरी खबर पढ़े:
संविधान छुआछूत को 64 साल पहले ही खत्म कर चुका है लेकिन लोगों के मन में आज भी यह कुप्रथा बसी हुई है। एक चौथाई से ज्यादा भारतीय छुआछूत मानते हैं और अपने घरों में किसी न किसी रूप में इसका पालन करते हैं।

नैशनल काउंसिल ऑफ अप्लाईड इकनॉमिक रीसर्च (NCAER) और अमेरिका की मैरिलैंड यूनिवर्सिटी ने एक अध्ययन में पाया कि हर चौथा भारतीय छुआछूत को मानता है। छुआछूत मानने वालों में हर धर्म और जाति के लोग शामिल हैं।

यह सर्वे भारत भर के 42000 घरों में किया गया। लोगों के जवाबों से पता चलता है कि छुआछूत मानने वालों में सबसे ज्यादा ब्राह्मण हैं, उसके बाद ओबीसी हैं। छुआछूत सबसे ज्यादा हिंदुओँ, सिखों और जैनियों में पाई गई।

1956 में स्थापित NCAER भारत की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी स्वतंत्र संस्था है जो आर्थिक मामलों में रीसर्च करती है। 2011-12 में इसने देश का सबसे बड़ा गैर सरकारी सर्वे किया था। इसी सर्वे के नतीजों में यह बात सामने आई है कि भारत में छुआछूत किस हद तक घर-घर में फैली है। इस सर्वे के पूरे नतीजे 2015 तक आ पाएंगे।

अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने इस बारे में छापी खबर में बताया है कि सर्वे में पूछा गया कि क्या आपके परिवार में कोई छुआछूत को मानता है। अगर इस सवाल का जवाब नहीं है, तो दूसरा सवाल था – क्या आप अपने किचन में अनुसूचित जाति के किसी व्यक्ति को आने देंगे या उसे अपने बर्तन इस्तेमाल करने देंगे?

भारतभर के 27 फीसदी लोगों ने पहले सवाल का जवाब हां में दिया। हां कहने वालों में सबसे ज्यादा 52 फीसदी ब्राह्मण थे। 24 फीसदी कथित ऊंची जाति के गैर ब्राह्मण थे। (स्त्रोत: http://navbharattimes.indiatimes.com/india/biggest-caste-survey-one-in-four-indians-admit-to-practising-untouchability/articleshow/45318395.cms)

ऐसे में डॉ भीम राव अम्बेडकर जी आज भी जीवंत हो उठते हैं . सामाजिक न्याय के संघर्ष में उन जैसा कोई नहीं है जो हमारा मार्गदर्शन करे.डॉ. भीमराव अंबेडकर जी को  उनके परिनिर्वाण दिवस  6 दिसम्बर पर सत सत नमन…….

जय भीम . जय भारत.

Writings of Babasaheb Ambedkar

Posted: मई 14, 2009 in Ambekdar Books
टैग्स:

A very great source of literature is available on Dr. Baba Saheb Ambedkar on the site http://www.ambedkar.org/home.html. It is very important sites to know Dr. Ambedkar.

Dr. Ambedkar International Mission

http://aimjapan.org/ja/about-us

Dr. B.R.Ambedkar Books and other material

http://drambedkarbooks.wordpress.com/